Jokes > Funny Jokes - HindiJokes.Mobi
Himaŋshʋ Gʋpta : 1 year ago
पत्नी: मैंने सुना है की स्वर्ग में पुरुषो को
अप्सराए मिलती है..
औरतो को क्या मिलता है?
|
|
|
|
पति: कुछ नहीं
उपरवाला सिर्फ दुखी लोगो
की ही सुनता है..!
Himaŋshʋ Gʋpta : 1 year ago
टीचर :- पवन तुम क्लास मे ईतना शोर क्यो कर रहे हो?
पवन :- क्योकि " सावन का महीना........ पवन करे शोर"
Himaŋshʋ Gʋpta : 1 year ago
क्या दूध पिने से ताकत आती है???
5 गिलास दूध पिओ और दीवार को हलाओ,नही हिल्ली ना।
.
.
.
अब 5 बोतल बियर पिओ और दीवार की तरफ
कातिल निग़ाहो से देखो साली दीवार थर-थर
कापती दिखे गी।
Himaŋshʋ Gʋpta : 1 year ago
एक सर्वे के मुताबिक खूबसूरत लड़कियों को कम अकल वाले लड़के पसंद आते हैं।
.
.
.
.
.
.
.
.
साला तभी मैं सोचूं कि अभी तक मैं Single क्यों हूँ।
Himaŋshʋ Gʋpta : 1 year ago
आप खुद को कितना भी बड़ा आशिक समझो लेकिन...
.
.
.
.
.
.
.
.
सबसे ज्यादा दर्द भरे गाने ऑटो वालों के पास ही होते हैं।
Himaŋshʋ Gʋpta : 1 year ago
यमराज से मस्ती!
यमलोक के दरवाजे पर दस्तक हुई तो यमराज ने जाकर दरवाजा खोला।

उन्होंने बाहर झांका तो एक मानव को सामने खड़ा पाया। यमराज ने कुछ बोलने के लिए मुंह खोला ही था कि वह एकाएक गायब हो गया।

यमराज चौंके और फिर दरवाज़ा बंद कर लिया। यमराज अभी वापस मुड़े ही थे कि फिर दस्तक हुई। उन्होंने फिर दरवाजा खोला। उसी मानव को फिर सामने मौजूद पाया, लेकिन वह आया और फिर गायब हो गया।

ऐसा तीन-चार बार हुआ तो यमराज अपना धैर्य खो बैठे और अबकी बार उसे पकड़ ही लिया और पूछा, "क्या बात है भाई, क्या ये आना-जाना लगा रखा है। मुझसे पंगा ले रहे हो?"

मानव ने बड़ी सहजता पूर्वक जवाब दिया, "अरे नहीं महाराज, दरअसल मैं तो वैंटीलेटर पर हूं और यह डॉक्टर लोग ही हैं जो आपसे मस्ती कर रहे हैं।"
Himaŋshʋ Gʋpta : 1 year ago
सब गोलमाल है!
एक व्यक्ति बढ़िया सा कपड़ा खरीदा और सूट सिलवाने के लिेए एक दर्जी के पास गया। दर्जी ने कपड़ा लेकर नापा और कुछ सोचते हुए कहा, "कपड़ा कम है। इसका एक सूट नहीं बन सकता।"

वह दूसरे दर्जी के पास चला गया। उसने नाप लेने के बाद कहा, "आप दस दिन बाद सूट ले जाइए।"

वह निश्चित समय पर दर्जी के पास गया। सूट तैयार था। अभी सिलाई के पैसे दे रहा था कि दुकान में दर्जी का पांच साल का लड़का प्रविष्ट हुआ। उस व्यक्ति ने देखा कि लड़के ने बिल्कुल उसी कपड़े का सूट पहन रखा है। थोड़ी सी बहस के बाद दर्जी ने बात स्वीकार कर लिया।

वह व्यक्ति पहले दर्जी के पास गया और फुंकारते हुए कहा, "तुम तो कहते थे कि कपड़ा कम है, पर तुम्हारे साथ वाले दर्जी ने उसी कपड़े से न केवल मेरा, बल्कि अपने लड़के का भी सूट बना लिया।"

दर्ज़ी ने हैरान होकर पूछा, "ऐसा कैसे हो सकता है?"

आदमी: ऐसा ही हुआ है अगर यकीन नहीं तो साथ चल के देख लो।

दर्जी फिर कुछ सोचते हुए बोला, "अच्छा लड़के की उम्र क्या है?"

आदमी: पाँच वर्ष।

दर्जी: तभी तो।

आदमी: क्या तभी तो?

दर्ज़ी: अरे श्रीमान मेरे लड़के की उम्र 18 वर्ष है तो उसका सूट कैसे बनता?
Himaŋshʋ Gʋpta : 1 year ago
F: Fantastic,
R: Real and
I: Intimate person who is
E: Enormously helpful in
N: Need; and truthful in
D: Deeds
Thanks for being such a wonderful person, Dear Friend!
Happy Friendship Day