Jokes - HindiJokes.Mobi
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
बस मैं एक आदमी अपने 9 बच्चों के साथ जा रहा था!
बच्चे बहुत शोर कर रहे थे!
इतने में एक बुज़ुर्ग अपनी लाठी से ठक ठक करते हुए चढ़े!
बच्चों का बाप बोला :- हज़रत आप अपनी लाठी के आगे रबड़ चढ़ा ले तो ये शोर नहीं करेगी!
बुज़ुर्ग:- अगर यही काम तू ने किया होता तो इतना शोर ना होता!!!
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
Wife- Bohot Machhar kaat rahe hain.
Misba Ul Haq- Goodnight ya All Out?
Wife- Goodnight laga do. All out to aap roz hi hote ho.
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
"FB पर 2 तरह के लोग है
1.Single
2.Married .
ससुरा दोनों दुखी ।।"
एक रात को दुखी !
दूसरा दिन में दुखी !
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
अध्यापिका: अगर मैं तुम्हारी मम्मी होती तो तुम्हें 2 दिन में गधे से इंसान बना देती।
पप्पू: और मेरे पापा आपको 1 रात में इंसान से घोड़ी बना देते।
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
हद्द करती हें आजकल की लड़कियां मोटर सायकल
पर बैठते हुए....
मालूम नहीं पड़ता की girlfriend बैठी हे की
विक्रम की पीठ पर बैताल बैठा हे.....
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
वो लाईट जाने के बाद ,
कैँडिल ले कर टायलेट जा
रहे थे.
कोई कम्बख्त फूँक मार के कह
गया-
हैपी बर्थ डे टू यु ।
अब बताओ ....!!!!!
इमरजेन्सी में भी मजाक..!!
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
female "एडमिन" चाहिए
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
पेज पर झाड़ू पोंछा लगाने के वास्ते।।
इक्छुक एडमिन से सम्पर्क करे पगार ग्रुप वासियो से चंदा करके दी जायेगी
Himaŋshʋ Gʋpta : 2 years ago
एक बार pappu ट्रेन से सफर कर रहा था।
जल्दी में टिकट नहीं ले पाया और ट्रेन आ गई थी।
उसे पता नहीं क्या सूझा कि उसने प्लैटफॉर्म पर पड़ा एक पुराना टिकट उठा लिया और उसे पानी में डुबोकर जेब में आराम से रख लिया।
ट्रेन चल पड़ी और आधे घंटे बाद जब टीटी के आने की हलचल सुनाई पड़ी तो उसने टिकट निकालकर
हाथ में ले लिया।
उसने जेब से 2 पेन निकाल
कर दोनों हाथों में एक- एक पेन लेकर टिकट को पेन से
पकड़ा (हाथों से दूर रखा)।
टीटी: टिकट, टिकट दिखाओ
अपना...!!
Pappu ने वैसे ही पेन से पकड़कर टीटी को दूर से
ही टिकट दिखाने लगा।
टीटी को बड़ा अजीब लगा।
टीटी (गुस्से से): ये
क्या बेहूदा हरकत है, हाथ से क्यों नही दिखाते..??
pappu :कैसे छुएं इसे...!!
टॉयलेट में गिर गया था।
टीटी: दूर रखो इसे, न जाने कहां-कहां से आ जाते हैं....!!