Hindi jokes - HindiJokes.Mobi
Ƥrịŋċḕṡş Ʀĭɣẳ: 1 month ago

त्यौहारों की शुभ कामनाओं का असर इस कदर छाया है कि तबियत कैसी है अब तुम्हारी? का जवाब भी Same To You आया है।
Ƥrịŋċḕṡş Ʀĭɣẳ: 1 month ago
जीजा जी को जीजू कहने वाली लड़कियां ही भारत में हुये आधे से ज़्यादा तलाक़ की ज़िम्मेदार होती हैं।
जीजू आ गए, जीजू क्या लाये!
Ƥrịŋċḕṡş Ʀĭɣẳ: 1 month ago

टीचर : मैं जो पूछूँ उसका जवाब फटाफट देना
संजू : जी सर ,
टीचर : भारत की राजधानी बताओ ?
संजू : फटाफट
टीचर अभी तक संजू को पीट रहा है
Ƥrịŋċḕṡş Ʀĭɣẳ: 1 month ago
स्कूल मे एक दिन टीचर संजू से :-
तुम बड़े होकर क्या बनोगे?
संजू :- मेम मै बड़ा होकर सी. ए (CA) बनूँगा, सभी महानगरों मे मेरा बिजनेस चलेगा, हमेशा हवाई यात्रा करूँगा,
हमेशा 5 स्टार होटल मे ठहरूँगा, हमेशा 10 नौकर मेरे आसपास रहेंगे, मेरे पास सबसे महंगी कार होगी, मेरे पास सबसे महंगे…
टीचर :- बस संजू बस!!
बच्चों आप सब को इतना लम्बा जवाब देने की आवश्यकता नही है, सिर्फ एक लाइन मे जवाब देना…
… अच्छा पिंकी तुम बताओ तुम बड़ी होकर क्या बनोगी ?
पिंकी :- संजू की पत्नी..
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 1 month ago
जाड़े की धूप
टमाटर का सूप ।।

मूंगफली के दाने
छुट्टी के बहाने ।।

तबीयत नरम
पकौड़े गरम ।।

ठंडी हवा
मुँह से धुँआ ।।

फटे हुए गाल
सर्दी से बेहाल ।।

तन पर पड़े
ऊनी कपड़े ।।

दुबले भी लगते
मोटे तगड़े ।।

किटकिटाते दांत
ठिठुरते ये हाथ ।।

जलता अलाव
हाथों का सिकाव ।।

गुदगुदा बिछौना
रजाई में सोना ।।

सुबह का होना
सपनो में खोना ।।

स्वागत है सर्दियों का आना!!
आपको सर्दी की शुभकामनांए!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 1 month ago
- फ़ीस माफ़ी की अर्ज़ी! -

सेवा में,
श्री मान प्रधानाचार्य
राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय

विषय: फ़ीस माफ़ी हेतु।

महोदयजी,

उपरोक्त विषय में आप से निवेदन है कि कल मैं घर से फ़ीस के लिए 500 ₹ ले कर निकला था, मगर रास्ते में मेरी गर्लफ्रेंड मिल गई तो उसे पिज्ज़ा हट ले जाना पड़ा। वहाँ वो 500 ₹ खर्चा हो गए।

वहीं मैंने देखा आप भी पूजा मैडम को अपने हाथ से पिज्जा खिला रहे थे जिसका वीडियो साथ संलग्न कर रहा हूँ।

आगे आप खुद समझदार हैं।

मेरी फीस माफ या आपका पर्दा फाश।

आपका आज्ञाकारी छात्र
पप्पू
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 1 month ago
सच्ची मोहब्बत वोही है जिसको चाहते ही उसकी किसी और से शादी हो जाये!
Ür's Himaŋshʋ Gʋpta: 1 month ago

लड़की: मेरी हर मुस्कान पे न जाने कितने लोग मर जाते हैं।
पप्पू: कभी टाइम निकाल के घर आओ न चूहे मारने हैं। सालों ने बड़ा परेशान कर रखा है।